EBOOK HINDI

Anekarthi Shabd (अनेकार्थी शब्द ) 250+ In Hindi

Anekarthi Shabd ( अनेकार्थी शब्द ) परिभाषा :- ऐसे शब्द जिनके अनेक अर्थ होते हैं , उन्हे अनेकार्थी शब्द ( Anekarthi Shabd ) कहते हैं। ऐसे शब्दो की परिक्षापयोगी सामाग्री निम्नलिखित है।

Anekarthi Shabd (अनेकार्थी शब्द ) अनुशीलन सामाग्री

  • अंबर : वस्त्र, आनोश, कपास, अप्रक, बादल, अमृता
  • अमृत : सुधा, जल, घी, अत्र, मुक्ति, पारा, सोना।
  • अहि : सपि, गहु, पृथिवी, सूर्य, दुष्ट, वृत्रासुर।
  • आराम : वाटिका, सुविधा, गहत, विश्राम।
  • अंकोर : गोद, मेंट, रिश्वत, कलेवा, दुपहरी।
  • अंब: आम का वृक्ष या फल, माता, दुर्गा।
  • अचल : पहाड़, अटल, निश्चला
  • अदिति : देवताओं की पाता, पृथ्वी, प्रकृतिा
  • अर्क : सूर्य, आक, इन्द्र, ताँबा, विष्णु, आसव।
  • अरुणलोचन : लाल, नेत्र, कबूतर, कोकिला
  • अर्णव : समुद्र, सूर्य, इन्द्र।
  • अर्भ : बालक, शिष्य, शिशिर, सागपाता
  • अश्म : पत्थर, पर्वत, बादल।
  • अलि : सखी, बिच्छू, भ्रमरी,पंक्ति, बाँध, सेतु।
  • उरु: जाँघ, विशाल, श्रेष्ठ।
  • • ऊर्मि : लहर, दुःख, शिकन, कपड़े की सिलवट, पीड़ा।
    कपि : बन्दर, हाथी, सूर्य।
    कपिल : अग्नि, कुत्ता, चूहा, शिलाजीत, शिव, वानर, सूर्य, विष्णु,
    कलधौत : सोना, चाँदी, सुमधुर, शब्द, सुन्दर, धुला हुआ।
    • कलापिनी : मोरनी, रात्रि।
    कलि : विवाद, शिव, पाप, युद्ध, दुःख, एक युग, वीर
    • कशिपु : तकिया, बिछौना, अत्र, भात, आसन, कपड़ा, प्रहलाद के पिता।
    कांत : पति, श्रीकृष्ण, विष्णु, चन्द्रमा, शिव, बसन्त, ऋतु, कार्तिकेय।
    केहरी : सिंह, घोड़ा।
    • कोष : शब्द -संग्रह, खजाना, म्यान, डिब्बा।
    • कलन : स्त्री, नितम्ब, किला।
    कलापी : मोर, कोयल, तरकसबन्द, वटवृक्ष।
    गो : गाय, पृथ्वी, दिशा, माता, सरस्वती, इन्द्रिय, वाणी
    घन : बादल, बड़ा हथौड़ा, घना,
    चपला : बिजली, लक्ष्मी, चंचल स्त्री।
    चक्री : विष्णु, कुम्हार।
    जया : दुर्गा, र्वती, पताका, हरी, दूबा
    जीवन : पानी, जिन्दगी, प्राण, जल, पुत्र, गंगा, आजीविका।
    ताल : तालाब, ताड़ का वृक्ष, संगीत का संमयक संकेत विशेष।
    दुर्दर : मेढ़क, बादल।
    • द्रोण : कौआ, दोना, द्रोणाचार्य।
    • द्विज : अंडज प्राणी, पक्षी, ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, दाँत, चन्द्रमा।
    • नंदिनी : गंगा, उमा, पुत्री, ननद, कामधेनु की बछिया।
    • नलिनी : कमलिनी, नदी।
    • नीलकण्ठ : मोर, शिव, एक पक्षी विशेष।
  • धनञ्जय : अर्जुन, अग्नि, चित्रक, वृक्ष, अर्जुन, विष्णु।
  • जातरूप: धतूरा, साना।
  • जलज: कमल, शंक, मोती, सेवार, चंद्रमा, मछली।
  • रस : स्वाद,सार, आनन्द, जल, औषधि का अका
  • परिकर : कमरबन्द, परिवार, समूह, नौकर-चाकर
  • फल: मेवा, परिणाम, लाभ, शस्त्र का अग्रभाग।
  • रसाल : आम, ईख, रसीला, मीठा।
  • वन : जंगल, पानी, भवन, वाटिका।
  • वर : दूल्हा, आशीर्वाद, श्रेष्ठ, वरदान।
  • विहंग, विहंगम : पक्षी, बादल, वायु, विमान, सूर्य, चन्द्रमा,
    तारागण, देवता।
  • शिव : कल्याण, महादेव, मंगल, भाग्यशाली।
  • शूर : वीर, योद्धा, विष्णु, सिंह।
  • सारंग : छाता, तालाब, कमल, गहना, भौंरा, चन्द्रमा, कपूर, स्त्री,फूल, श्री कृष्ण, रात्रि, समुद्र, बाण, पानी, दीपक, मेख, केश,
    खंजन, सर्प, मेढ़क, वस्त्र, धनुष, कामदेव, काजल, शोभा, दिन, एक राग, एक रंग विशेष चन्दन, घोड़ा, चातक, मधुमक्खी, मोर,
    बाज, सोना, शंख, कोयल, मृग, हाथी, सिंह, हंस, सूर्य।
  • सुरभि : पृथ्वी, गौ, सुगन्धि, सोना, वसंत, ऋतु, सुन्दर।
  • सुवर्ण : सोना, सुनहरा, सुंदर वर्ण का।
  • हरि : विष्णु, मेढ़क, सर्प, सूर्य, घोड़ा, चाँद, कामदेव, हाथी,
    आग, हंस, किरण।
  • हर : प्रत्येक, शिव, हरण करने वाला, हल, भिन्न में अंश के नीचे
    की संख्या।

पुनर्विलोकन

  • अंतरंग-अंदर का पीली मिष्ठ, गप्प
  • अक्षत- बिना धाब, पूण/समूचा कथा चावल
  • अक्षर -वर्ण (अकादि), ब्रह्मा, आमा, नित्य, पत्य, आकाश
  • अधा-हॉट, अंतरिक्ष, तुच्छ, बिना आधार का नीच का
  • अभिधान-नाम, पदनाम, उक्ति, शब्दकोश, नाममाला
  • अपल-पलरहित, कार्यान्वयन, नशा-पानी
  • अमृत-सुधा, जल, मुक्ति, मृत्युरहित, दूध
  • अलि-सखी, पंक्ति, मान्यवर, गीला
  • आँख-नेत्र, दृष्टि, निगरानी
  • इष्ट- ध्येय, समीपी, काम्य देवता, परमात्मा
  • उपस्कर-संयंत्र, सामान, अलंकार
  • कंटक-काँटा, कीलक, विघ्न
  • कक्ष-काँख, कमरा, कछौटा, सूखी घास, कक्षा (सूर्य की)
  • कटक-सेना, शिविर, समूह, कडा, श्रृंखला, चटाई
  • कल-मशीन, सुख, बीता दिन, आने वाला दिन
  • कूट- चोटी, नोक, ढेर, छल, रहस्यमय, जाली, झूठा
  • केतु-ध्वज, एक ग्रह, पुच्छल तारा
  • कोटि-धनुष का सिरा, श्रेणी, करोड़
  • कलि-कलह, दुःख, पाप, चार युगों में चौथा युग
  • किनारा-तट, सिरा, पार्श्व, हाशिया
  • कुंभ-घड़ा, प्रयागराज का एक पर्व, हाथी के मस्तक के दोनों ओर का भाग
  • खग-पक्षी,तारा,बाण
  • खर-प्रखर, दुष्ट, गधा, तिनका, एक राक्षस का नाम
  • गण-समूह, शिव के अनुचर, दूत, पिंगल की गणना की इकाइयाँ
  • घन- बादल, बड़ा हथौड़ा, तीन का घात, जिसमें लम्बाई-चौड़ाई-
    ऊँचाई बराबर हो, धना
  • चाप-धनुष, दबाव, परिधि का एक आधा, (आलू) टिकिया
  • चाल-गति, चलने का ढंग, आहट, रिवाज, धोखा, चालाकी,
    मोहरों का हिलना
  • चक्र-चाक, पहिया, चक्कर, घेरा, मंडल
  • चपला-चंचल स्त्री, बिजली, लक्ष्मी
  • छादन-वस्त्र, परदा, छप्पर
  • जलज-कमल, मोती, मछली, शंख, सेवार
  • जलधर-जलाशय, बादल, समुद्र
  • जीवन-जिंदगी, प्राण, जीविका-निर्वाह, पानी
  • तरंग-स्वर लहरी, लहर, उमंग
  • तीर-नदी तट, बाण, समीप
  • दल-छोटा पत्ता, टुकड़ा, सेना की टुकड़ी, पार्टी, झुंड
  • दस्ता-हत्था, 24-25 ताव कागज, सैनिक दल
  • दाय-दायित्व, उत्तराधिकार में प्राप्य संपत्ति, दहेज
  • धवल-उजला, सफेद, साफ़, निष्कलंक
  • नग-पर्वत, साँप, नगीना, संख्या, अदद
  • नीलकंठ-मोर, शिव, एक पक्षी-विशेष
  • नाल-डंडी, डंठल, नली, अर्धचंद्राकार लोहा
  • निशाचर-राक्षस, प्रेत, उल्लू, चोर
  • नेपथ्य-सजावट, वेशभूषा, रंगमंच का पिछला भाग
  • पानी-जल, चमक, लज्जा, वर्षा, स्वाभिमान
  • पार्श्व-बगल, पंजर, क्षेत्र का अंग, हाशिया, पक्ष
  • पानी-जल, चमक, लज्जा, वर्षा, स्वाभिमान
  • पार्श्व-बगल, पंजर, क्षेत्र का का अंग, हाशिया, पक्ष
  • पुष्कर-तालाब, कमल, पानी मद
  • पद-कदम, स्थान, छंद, ओहदा, शब्द
  • पय-दूध, जल, अन्न
  • पयोधर-बादल, स्तन, तालाब, पर्वत
  • परिकर-समूह, कमरबंद, परिवार, नौकर-चाकर
  • फल-मेवा, परिणाम, लाभ, शस्त्र का अग्रभा
  • बलि-बलिदान, चढ़ावा, उपहार, कर, राजा बलि
  • मंडल-वृत्त, सूर्य-चन्द्रमा का घेरा, भूखंड, डिविज़न, चक्कर
  • मर्त्य-मरनेवाला, मनुष्य, शरीर
  • महीधर-शेषनाग, पहाड़, एक वर्णिक छंद
  • युक्त-जुड़ा हुआ, मिश्रित, नियुक्त, उचित
  • युक्ति-मिलन, तरकीब, दलील
  • योग-मेल, लगाव, मन की साधना, ध्यान, कुल, जोड़, शुभकाल
  • रस-निचोड़, स्वाद, आनन्द, सत्त, धातु का भस्म
  • रसाल-आम, ईख, रसीला, मीठा
  • लहर-तरंग, उमंग, झोंका, झूलना
  • संज्ञा-चेतना, ज्ञान, नाम, संकेत
  • संधि-जोड़, व्याकरणों में अक्षरों का मेल, युगों का मिलन, पारस्परिक
    निश्चय, सेंध, नाटक के कथांश
  • सुवर्ण-सुनहरा, अच्छे वर्ण का, सोना
  • हस्ती-हाथी, अस्तित्व, हैसियत

You May Like This:-

आशा करता हू कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी होगी और आपको अपने प्रतियोगी परिक्षा कि तैयारी करने में भी मदद मिलेगी।दोस्तों इस book में आप को Competitive exam में अब तक के पूछे गए सभी प्रकार के Question मिल जायेंगे || आप कर competitive exam की तैयारी कर रहे हैं तो ये book आप के लिए बहुत ही important हैं आप के लिए , और अगर आपको ये सभी जानकारी अच्छी लगी हो तो Comment Box में जाकर हमें Comment करके जरूर बतायें जिससे कि हम इसी तरह प्रतिदिन आपके उज्जवल भविष्य के लिए कुछ न कुछ लाते रहें। 

जरुर पढ़ें :- दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या ebook की आपको आवश्यकता है तो आप निचे comment कर सकते है. आपको किसी परीक्षा की जानकारी चाहिए या किसी भी प्रकार का हेल्प चाहिए तो आप comment कर सकते है. हमारा post अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे.

Disclaimer :- Freenotes.in does not claim this book, neither made nor examined. We simply giving the connection effectively accessible on web. In the event that any way it abuses the law or has any issues then sympathetically mail us.

About the author

admin

Leave a Comment